दुनिया की इस जगह पर आने में यमराज भी हो गए हैं फेल पिछले 100 सालों से नहीं हुई एक भी मौत, जानिए क्या है पूरी कहानी

दुनिया की इस जगह पर आने में यमराज भी हो गए हैं फेल पिछले 100 सालों से नहीं हुई एक भी मौत, जानिए क्या है पूरी कहानी दुनिया में ऐसा कुछ नहीं है जो आपकी मौत को रोक सकता है लेकिन इस प्रकृति में कई ऐसी चीजे है जो इन सभी को बदल देती है दुनिया में ऐसी भी कुछ जगह हैं जहाँ आने से यमराज भी कतराते हैं आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसी जगह के बारे में जहाँ पिछले 100 सालो से कोई भी मौत नहीं हुई है इस बात को सुनकर आप भी जरूर चौंक जायेंगे लेकिन ये बात पूरी तरह सच है। ये एक मात्र ऐसी जगह है जहाँ किसी भी मौत नहीं होती है इसका कारण जान आपके भी खड़े हो जायेंगे रोंगटे।

दुनिया की इस जगह पर आने में यमराज भी हो गए हैं फेल पिछले 100 सालों से नहीं हुई एक भी मौत, जानिए क्या है पूरी कहानी

यह भी पढ़ें सिर्फ नज़रों के बादशाह ही 2 सेकंड में 67 में छुपा 76 ढूंढ सकते है बड़े बड़े मास्टरमाइंड भी हो चुके है फेल

जानिए कहाँ है वो जगह जहाँ नहीं जाते हैं यमराज

नार्वे में स्थित लॉन्ग इयरबेन में कई सालो से यमराज के आने पर बैन लगा हुआ है ये जगह कई कारणों की वजह से अनोखी है। यहां मई से लेकर जुलाई तक सूरज कभी नहीं डूबता मतलब यहाँ 3 महीने तक रात नहीं होती है जिस कारण नार्वे को मिडनाइट सन के नाम से भी जाना जाता है यहाँ का तापमान भी इतना कम होता है कि किसी का भी खून जम जाए। यही कारण है कि इस जगह पर सरकार ने लोगों के मरने पर बैन लगा दिया है आपको इस कानों को जानकर थोड़ा आश्चर्य जरूर होगा लेकिन ऐसा यहाँ सच में हो रहा है इस देश में तापमान इतना की लोग यहाँ बड़ी मुश्किल से अपना जीवन यापन करते हैं। तो आइये जानते है की सरकार इस तरह का अनोखा कानून यहाँ क्यों बनाया है।

जानिए क्यों बना दिया है सरकार ने यहाँ अजीब कानून

नॉर्वे में ज्यादातर ईसाई धर्म को मानने वाले लोग रहते हैं इस कारण यहाँ पर मौत के बाद लोगों को दफनाया जाता है लेकिन तापमान बेहद कम होने के कारण यहाँ ठण्ड बहुत ही ज्यादा तेज होती है जिस कारण यहाँ किसी का भी शरीर डीकंपोज नहीं हो पाता है साल 1917 में यहां एक शख्स इनफ्लुएंजा बिमारी से पीड़ित था और बीमारी के कारण उसकी मौत भी हो गई थी तब उसे वहीं दफना दिया गया था लेकिन इतने साल बीत जाने के बाद भी उसके शव में अभी तक इनफ्लुएंजा के वायरस मौजूद है। क्योंकि शरीर डीकंपोज हो ही नहीं पाया था इसके बाद यहां की सरकार ने एक कानून बना दिया और तय किया यहां किसी की भी मौत पर उसका अंतिम संस्कार नहीं किया जायेगा ताकि शहर को किसी भी खतरनाक महामारी से बचाया जा सके इस देश की आबादी भी काफी कम है तब से लेकर अब तक जब किसी व्यक्ति का अंतिम समय आता है तो उसे हेलिकॉप्टर से दूसरी जगह भेज दिया जाता है और वहां उसका अंतिम संस्कार कर दिया जाता है। जिस कारण इस देश में पिछले 100 सालो से एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें बूढ़े चाचा ने कबाड़ से बना दिया शानदार जुगाड़ ईजाद कर दी 6 पहियों पर दौड़ने वाली बाइक, देखें Video

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now