यह है चमत्कारी फूल, आधे किलोमीटर तक फैलाता है खुशबू, जानिए नाम

यह है चमत्कारी फूल, आधे किलोमीटर तक फैलाता है खुशबू, जानिए नाम। आज हम एक बेहद ख़ास फूल के बारें में जानेंगे जो जिसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते है।

यह है चमत्कारी फूल

भारत में ही फूलों की हजारों प्रजातियां है। लेकिन आज हम जिस फूल की चर्चा कर रहे हैं वह विदेश से भारत आया है। दरअसल, यह पौधा अमेरिका से भारत आया और अब यह भारत के झारखंड के हजारीबाग में खिला हुआ है। यह फूल इतना खूबसूरत है कि दूर-दूर से लोग इसे देखने आते हैं, और देख कर खुश हो जाते हैं। इस फूल का नाम मैग्नोलिया है। इस फूल को बड़ी ही मेहनत से उगाया गया है। क्योंकि कई प्रयास के बाद यह फूल लग पाया है। लेकिन इतना प्रयास इसकी खासियत को देखते हुए किया गया होगा। बता दे कि यह पौधा भारत के पश्चिम बंगाल में भी कई जगह पर है। जहां पर अपनी सुंदरता बढ़ा रहा है। चलिए जानते हैं इस फूल की खासियत।

यह है चमत्कारी फूल, आधे किलोमीटर तक फैलाता है खुशबू, जानिए नाम

यह भी पढ़े- फ्री में ऐसे लगाएं पुदीना का पौधा, यहाँ जानिए पुदीना लगाने और घना करने का मुफ्त का तरीका

मैग्नोलिया का फूल

यह फूल बहुत ही चमत्कारी है। क्योंकि यह कोई सामान्य फूल नहीं है। इस फूल की रात के समय 200 से 300 मीटर तक सुगंध फैल जाती है। जैसे कि अपने यहां का हरसिंगार पौधा होता है। जी हां हरसिंगार का पौधा जिसे स्वर्ग से आया पौधा कहते हैं, वह जब खिलता है तो रात में चारों तरफ सुगंध फैल जाती है। इसी तरह यह पौधा है। इसे घर के आंगन में लगाए तो ऐसा लगता है जैसे इत्र छिड़क दिया गया हो। बता दे कि मैग्नोलिया के पत्ते साल भर लगे रहते हैं। कभी झड़ते नहीं है। लेकिन फूल साल में दो बार आते हैं। यह देखने में बड़े-बड़े सुंदर फूल होते हैं, जो शाम होते हैं सिकुड़ और धूप निकलते ही यह खिल जाते हैं। चलिए जानते हैं यह कुल कितने रंगों में देखने को मिलता है।

मैगनोलिया फूल कई तरह में मिल जाएगा। जिसमें इसके रंग सफेद, पीले, गुलाबी और बैगनी में आते हैं। बता दे की मैगनोलियासी एक पूरा परिवार ही है। जिसमें पेड़ और झाड़ी के करीब 225 से ज्यादा प्रजाति है। जैसा कि हमने पहले बताया उत्तर और दक्षिण अमेरिका के साथ यह हिमालय और पूर्वी एशिया में देखने को मिलेगा। लेकिन भारत में भी कुछ जगह पर अब इसके पौधे लगाए गए हैं। यह एक बड़ा पेड़ होता है। जिस पर फूल खिलते हैं।

यह भी पढ़े- ना पीले होंगे, ना सूखेंगे, नवरात्री में ऐसे उगाएं जौ, 9 दिनों तक हरे-भरे रहेंगे