किसानों को यह गलती पड़ेगी भारी, 17वीं क़िस्त के 2 हजार रु ना मिलने का बन सकता है कारण, जानें कैसे बचे

किसानों को यह गलती पड़ेगी भारी, 17वीं क़िस्त के 2 हजार रु ना मिलने का बन सकता है कारण, जानें कैसे बचे । आज हम जानेंगे कि किसान 17वीं क़िस्त के 2 हजार रु अटकने से कैसे बचा सकते है।

पीएम किसान योजना

किसानों की आर्थिक सहायता करने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से पीएम किसान सम्मान निधि योजना चलाई जा रही है। इस लाभकारी योजना के तहत सालाना उन्हें ₹6000 मिलते हैं। जिसकी 17वीं किस्त उन्हें मिलने वाली है। जबकि 16वीं क़िस्त का पैसा किसानों के खाते में पहुंच गया है। लेकिन यह 17वीं क़िस्त का पैसा कुछ किसानों को नहीं मिलेगा चलिए जानते हैं। इसका कारण क्या हो सकता है।

किसानों को यह गलती पड़ेगी भारी, 17वीं क़िस्त के 2 हजार रु ना मिलने का बन सकता है कारण, जानें कैसे बचे

यह भी पढ़े- एक बार लगाएं ये पेड़ और 70 साल तक सोते हुए कमाएंगे करोड़ों रुपए, जानिए कौन सी खेती करेगी मालामाल

17वीं क़िस्त के 2 हजार रु

पीएम किसान योजना के लाभार्थी कई किसान ऐसे हैं जो की अपात्र होते हुए भी जुगाड़ करके इस योजना का लाभ उठाते आ रहे हैं, तो ऐसे लोगों की पहचान करके सरकार उनका नाम लिस्ट से हटा रही है। साथ ही मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दे कि वह किसान जिन्होंने भू-सत्यापन और इ-केवाईसी का काम पूरा नहीं किया है, उन्हें भी पैसा नहीं मिलेगा। इतना ही नहीं इसके आलावा कुछ और कारण है, जिससे पैसा अटक सकता है। चलिए जानते हैं वह कारण क्या है।

किन कारणों से अटक सकता है पीएम किसान का पैसा

पीएम किसान योजना का लाभ उठाने वाले किसान अगर चाहते हैं कि 17वीं क़िस्त के 2000 उनके खाते में आये तो वह सबसे पहले भू-सत्यापन और केवाईसी का काम पूरा कर ले। साथ ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का आवेदन जब जमा किया था उस समय उन्होंने जो भी जानकारी दस्तावेज जमा किए थे वह सब कुछ सही हो। यानी कि उनका नाम, आधार नंबर, खाते की जानकारी, जेंडर आदि सब चीज उन्होंने सही-सही भारी हो। क्योंकि गलत जानकारी की वजह से कई लोगों का पैसा अटक सकता है।

यह भी पढ़े- यह है चमत्कारी फूल, आधे किलोमीटर तक फैलाता है खुशबू, जानिए नाम