साड़ी से हो रहा कैंसर, महिलाएं रहे सावधान, इन बातों का नहीं रखा ध्यान तो गंभीर बिमारी जकड़ सकती है, जानें साड़ी कैंसर क्या है

साड़ी से हो रहा कैंसर, महिलाएं रहे सावधान, इन बातों का नहीं रखा ध्यान तो गंभीर बिमारी जकड़ सकती है, जानें साड़ी कैंसर क्या है। इस समय साड़ी कैंसर के मरीज बढ़ते जा रहे है। चलिए जानते है साड़ी से कौन-सा कैंसर हो रहा है, इसके लक्षण और बचने के उपाय क्या है।

साड़ी कैंसर

भारत देश में आज भी ज्यादातर महिलाएं साड़ी पहनती है। इस लिए जब से इस साड़ी कैंसर की बात आई है चारों तरफ तेजी से इस बारे में चर्चा हो रही है। लोग हैरान और परेशान हो रहे हैं, कि वर्षों से साड़ी पहनती चली आ रही महिलाओं को कैसे यह समस्या हो सकती है। तब बता दे की साड़ी से जो कैंसर होता है उसे स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा कहा जाता है। यह कैंसर साड़ी पहनने वाली महिलाओं को हो रहा है।

जिसमें एक्सपर्ट का मानना है कि जब महिलाएं लगातार कई दिनों तक साड़ी पहनती रहती है, और कमर पर पेटिकोट कसकर बांधती है तो धीरे-धीरे कमर पर निशान पड़ने लगता है, और वह काला निशान हीं धीरे-धीरे स्किन कैंसर बन जाता है। जिसमें जो महिला साड़ी पहन कर धूप में निकलती है या ज्यादा गर्मी में रहा करती है, तो उन्हें खतरा ज्यादा होता है। तब चलिए जानते हैं इसका कैसर के लक्षण क्या है और इससे बचने के लिए क्या करना चाहिए।

साड़ी से हो रहा कैंसर, महिलाएं रहे सावधान, इन बातों का नहीं रखा ध्यान तो गंभीर बिमारी जकड़ सकती है, जानें साड़ी कैंसर क्या है

यह भी पढ़े- किचन में रखी इन 4 चीजों से हो सकता है कैंसर, जानें इनके नाम और कारण

स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा के लक्षण

इस कैंसर के लक्षण नीचे लिखे बिंदुओं के अनुसार जानें।

  • अगर कोई पुराना छाला या घाव है और वह फिर से ताजा हो रहा है तो यह भी एक लक्षण हो सकता है। मुंह के अंदर कोई छाला है और वह ठीक नहीं हो रहा तो इसे भी डॉक्टर को दिखा सकते हैं।
  • यह स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा कैंसर शरीर के उस भाग में अधिक प्रभाव दिखाता है जहां पर सूरज की रोशनी सीधे पड़ती है। क्योंकि साड़ी में पहनने में कुछ भाग खुला रहता है। जहां सीधी धूप पड़ती है।
  • इसके अलावा यह मुंह के अंदर या पैर के तलवों में भी दिखाई दे सकता है।
  • त्वचा पर किसी तरह का बंप यानी उठी हुई पिम्पल की तरह त्वचा कैंसर का लक्षण हो सकता है, जो की त्वचा के रंग से मेल खाता हो या गुलाबी, लाल, भूरा या फिर काले रंग का हो।
  • साथ ही होंठ पर एक पुराना पपड़ीदार धब्बा जो फफोले की तरह है यह भी इस कैंसर का एक लक्षण है।
  • इसके अलावा गुदा में या गुप्तांग में किसी तरह का मस्से की तरह दिखने वाला घाव हो गया हो तो यह भी एक लक्षण हो सकता है। चलिए जानते हैं इस कैंसर से कैसे बचा जा सकता है।

साड़ी कैंसर से कैसे बचें

इस साड़ी कैंसर से बचने के लिए महिलाएं जब साड़ी पहनती है तो पेटिकोट बहुत टाइट ना बांधे। क्योंकि ज्यादा टाइट होने के वजह से निशान पड़ता है, और वहां घाव बनने लगता है। साथ ही ज्यादा देर तक वहां धूप लगने से कैंसर का रूप ले लेता है। इसके लिए इस हिस्से पर साफ सफाई का भी ध्यान रखें।

वही जो महिलाएं साड़ी पहनकर ज्यादा देर धूप में रहती है तो खुले हिस्से को सूती कपड़े से ढके। वही कैंसर जैसी बीमारी से बचने के लिए पौष्टिक खाना, खाना चाहिए, एक्टिव रहना चाहिए, ज्यादा देर एक जगह पर नहीं बैठना चाहिए। जितना एक्टिव रहेंगे शरीर उतना स्वस्थ रहेगा। इस लिए शरीर का ध्यान रखें

यह भी पढ़े- ऐसे करें असली और नकली सरसों तेल की पहचान, नहीं तो नकली तेल पर पैसे बर्बाद होने के साथ-साथ सेहत भी खतरे में पड़ जाएगी