क्यों बैन हो रहे MDH, एवरेस्ट के मसालें, विदेशो में बैन के बाद भारत में भी शुरू हुई जांच, जानिये कौन-सा है खतरा ?

क्यों बैन हो रहे MDH, एवरेस्ट के मसालें, विदेशो में बैन के बाद भारत में भी शुरू हुई जांच, जानिये कौन-सा है खतरा ? बता दे कि MDH, एवरेस्ट मसालों के कुछ मसालों को सिंगापुर के बाद हांगकांग में भी बैन कर दिया है। फिर अब भारत में इसपर कड़े कदम उठायें गए है।

MDH, एवरेस्ट के मसालों को लेकर बड़ी खबर

MDH, एवरेस्ट के मसालें भारत में लोकप्रिय और फेमस मसालें है। लेकिन सिंगापुर और हांगकांग में इन कंपनियों के 4 मसालों को बैन कर दिया है। जिसका कारण यह है कि इसमें कीटनाशक एथिलीन आक्साइड की मात्रा ज्यादा है। जिसके वजह से लंबे समय तक अगर यह खाया गया तो कैंसर होने का खतरा बढ़ता है। यानी की यह गंभीर बीमारी को बढ़ावा देता है। चलिए जानते है, यह कौन-से मसालें है और भारत में इन मसालों के लिए क्या ऐक्शन लिया जा रहा है।

क्यों बैन हो रहे MDH, एवरेस्ट के मसालें, विदेशो में बैन के बाद भारत में भी शुरू हुई जांच, जानिये कौन-सा है खतरा ?

यह भी पढ़े- इन 6 जिलों से एक व्यक्ति नहीं आया वोट डालने, 10 सालों में लोकसभा चुनाव 2024 में बेहद कम वोट पड़े, जानें कारण

ये मसालें विदेशो में हुए बैन

मसालों में कीटनाशक की मात्रा ज्यादा पाए जाने के कारण विदेशों में एमडीएच और एवरेस्ट के कई मसाले बैन हुए हैं। जिसमें बताया जा रहा है कि मद्रास करी पाउडर, मिश्रित मसाला पाउडर के साथ-साथ सांभर मसाला और एवरेस्ट का फिश करी मसाला बैन किया गया है। क्योंकि इसमें इथिलीन ऑक्साइड यानी कि जो कैंसर का कारण बन सकता है इसकी मात्रा ज्यादा है। इस तरह से इनमें कीटनाशक अधिक होने से अधिक समय तक अगर इनका सेवन किया जाता है तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसीलिए खाद्य सुरक्षा केंद्र (CFS) द्वारा 5 अप्रैल को एमडीएच के तीन और एवरेस्ट के एक मसाले को बंद किया है।

भारत में शुरू हुई मसालों की जांच

विदेश में लग रहे मसालों पर बैन को देखते हुए भारत सरकार भी एक्शन में आ गई है। जिसमें मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दे कि भारत सरकार ने सभी पूर्व कमिश्नर को आदेश दिए हैं कि वह सभी मसालों के सैंपल लें और उनकी जांच करें। जिसमें जांच का समय 20 दिन का रखा गया है। 20 दिन बाद रिपोर्ट आएगी और उसके बाद अगर इन मसालों में कोई हानिकारक पदार्थ पाए गए तो सरकार इन पर एक्शन लेगी और कार्यवाही की जाएगी। जिसमें तीन से चार दिन सैंपल जमा करने में लगेंगे, और उसके बाद 20 दिन में मसाले के भीतर क्या यह पता चल जाएगा।

यह भी पढ़े- Jobs: एप्पल कंपनी भारत के 5 लाख लोगो को देगी नौकरी, यहाँ जानें एप्पल का प्लान क्या है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now