लाइसेंस नहीं, वाहन मालिकों के पास नहीं मिला ये 50 रु वाला कार्ड तो 10 हजार रु जुर्माना, 6 महीने की जेल, जानें कौन सा है ये कार्ड

लाइसेंस नहीं, वाहन मालिकों के पास नहीं मिला ये 50 रु वाला कार्ड तो 10 हजार रु जुर्माना, 6 महीने की जेल, जानें कौन सा है ये कार्ड। जिनके पास वाहन है उनके लिए बड़ी और जरूरी खबर।

वाहन मालिकों के लिए बड़ी खबर

ट्रैफिक चालान कई कारणों से कट सकता है। फिर वह चाहे आपके पास लाइसेंस ना हो, या आप बिना हेलमेट के गाड़ी चला रहे हो, इस तरह के कई कारण हो सकते हैं। जिनमें से एक कारण यह भी है कि अगर वाहन चलाने वालों के पास एक सर्टिफिकेट जो ₹50 में बन जाता है वह अगर नहीं पाया गया तो उन पर ₹10000 का जुर्माना और 6 माह की जेल हो सकती है। दरअसल, हम बात कर रहे हैं प्रदूषण प्रमाण पत्र की, यह प्रमाण पत्र अगर गाड़ी चलाते समय नहीं पाया गया तो यह सजा मिल सकती है।

इस प्रमाण पत्र को कागज के रूप में या फिर अपने फोन में डिजिलॉकर में रख सकते हैं। चलिए आपको हम बताते हैं कि प्रदूषण प्रमाण पत्र यानी कि पीयूसी सर्टिफिकेट क्या है, और इसे कैसे बनवाया जाता है। साथ ही यह कार्ड कैसे आपको इस जुर्माने से बचा सकता हैं। क्योंकि कई बार यह कार्ड बनवाने के बाद भी जुर्माना लग जाता है। चलिए जानते हैं उसका कारण क्या है।

लाइसेंस नहीं, वाहन मालिकों के पास नहीं मिला ये 50 रु वाला कार्ड तो 10 हजार रु जुर्माना, 6 महीने की जेल, जानें कौन सा है ये कार्ड

यह भी पढ़े- बिना टोल प्लाजा और फास्टैग के कटेगा पैसा, अब नए सिस्टम से कटेगा टोल टैक्स, जानिए कैसे देंगे टोल टैक्स

प्रदूषण प्रमाणपत्र क्या है ?

प्रदूषण प्रमाण पत्र हर गाड़ी मालिक के पास होना जरूरी है। यह एक आवश्यक दस्तावेज बन चुका है। क्योंकि यह प्रमाण पत्र यह बताता है कि आपकी जो गाड़ी है वह पर्यावरण में प्रदूषण नहीं फैला रही है। यानी कि पर्यावरण के जो मानक है उनके अनुकूल आपकी गाड़ी है, और यह किसी तरह के हानिकारक प्रदूषण पर्यावरण में नहीं फैला रहा है। आपकी गाड़ी से निकलने वाला धुंआ तय सीमा के अनुसार है।

सरल शब्दों में हम यही समझेंगे कि आपकी गाड़ी पर्यावरण में प्रदूषण नहीं फैला रही है। अब चलिए जानते हैं यह कार्ड कैसे बनवाना है, और इसका इस्तेमाल कैसे करना है। क्योंकि अगर यह कार्ड बनवा भी लिया है तो भी जुर्माना एक कारण के वजह से लग सकता है।

प्रदूषण प्रमाणपत्र कैसे बनता है ?

प्रदूषण प्रमाण पत्र बनवाना बेहद आसान है। यह आप प्रदूषण जांच केंद्र या पेट्रोल पंप में जाकर वाहन प्रदूषण जांच केंद्र में वाहन का प्रदूषण प्रमाण पत्र गाड़ी का जांच करवाने के बाद बनवा सकते हैं। इसमें ज्यादा समय भी नहीं लगता है, और इसका खर्चा भी कम है। लेकिन जिन लोगों का यह कार्ड बना हुआ है उन्हें भी यह कार्ड समय-समय पर रिन्यू कराना पड़ता है। अगर एक्सपायर होने के बाद उन्होंने पीसीओ कार्ड को रिन्यू नहीं कराया और गाड़ी चलाते समय वह पकड़े गए तो जुर्माना देना पड़ेगा और जेल भी हो सकती है।

यह भी पढ़े- सावधान! ट्रेन में ज्यादा सामान ले गए तो लगेगा जुर्माना, जानें कितना बड़ा बैग और कितना किलो सामान फ्री में ले जा सकते हैं