420 शिक्षकों ने की चार-सौ-बीसी, अब होगी कार्रवाई, जानिए कैसे लगाने जा रहे थे शिक्षा विभाग को चूना

420 शिक्षकों ने की चार-सौ-बीसी, अब होगी कार्रवाई, जानिए कैसे लगाने जा रहे थे शिक्षा विभाग को चूना। बिहार राज्य के सक्षमता परीक्षा में कई अभ्यर्थियों द्वारा शिक्षा विभाग को ठगने का काम किया जा रहा था। लेकिन वह पकड़े गए। चलिए जानते हैं पूरा मामला क्या है।

420 शिक्षकों ने की चार-सौ-बीसी

बिहार से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आ रही है। जिसमें यह बताया जा रहा है कि साक्षमता की परीक्षा पास करने वाले कई नियोजित शिक्षकों को शिक्षा विभाग ने लगभग फर्जी शिक्षकों की सूची में डाल दिया है। जिसके बाद 420 के करीब शिक्षक पूरी तरह से फर्जी हो सकते हैं। लेकिन इन्हें अभी एक मौका दिया जा रहा है, और 10 से 15 अप्रैल तक विभागीय सचिवालय के सभागार में इन्हें बुलाया जाएगा और भौतिक सत्यापन का एक मौका मिलेगा। चलिए जानते हैं आखिर कैसे पता चला कि यह शिक्षक फर्जी है। इन्होंने किस तरीके से शिक्षा विभाग को मूर्ख बनाने की कोशिश की है।

420 शिक्षकों ने की चार-सौ-बीसी, अब होगी कार्रवाई, जानिए कैसे लगाने जा रहे थे शिक्षा विभाग को चूना

यह भी पढ़े- आओ बकरी पकड़ो और जितनी मर्जी ले जाओ, बिल्कुल FREE, जानिए कहाँ मिल रहा इतना फ़ायदेमदं ऑफर

शिक्षकों द्वारा फर्जी दस्तावेज जमा किए गए

दरअसल, बिहार के लिए फर्जी शिक्षकों द्वारा फर्जी दस्तावेज जमा किए गए थे। जिसमें ज्यादातर शिक्षकों के एसटीईटी और टीईटी प्रमाण पत्र का क्रमांक एक जैसा है। इसके अलावा अन्य शिक्षकों के माता-पिता का नाम, जन्म तिथि एक है। जिसे देखकर ऐसा लगता है जैसे कि सबका प्रमाण पत्र किसी एक प्रमाण पत्र से बना दिया गया है। यानी कि यह एक तरह से फर्जी अंकसूची जमा की, मगर आखिरकार वह पकड़े गए। जिन्हें 7 मार्च से 23 मार्च तक के बीच में काउंसलिंग के लिए पटना बुलाया गया था।

लेकिन यह 420 शिक्षक उसमें शामिल नहीं हुए। यानी कि यह एक तरह से अपना गुनाह छुपा रहे थे। लेकिन कुछ हो सकता है किसी कारण से शामिल न हो पाए हो। इसलिए इन्हें एक और मौका दिया जा रहा है। चलिए जानते हैं इन्हें बुलाकर क्या किया जाएगा।

शिक्षा विभाग से मिल रहा बचने का एक आखरी मौका

इन शिक्षकों को शिक्षा विभाग द्वारा एक आखरी मौका दिया जा रहा है। उन्हें काउंसलिंग के लिए बुलाया जा रहा है। जिसमें वह शैक्षणिक एवं प्रशैक्षणिक प्रमाण पत्र लेकर आएंगे और उनका भौतिक सत्यापन किया जाएगा। अगर वह शिक्षक सही पाए गए तो इस कार्यवाही से बच जाएंगे। लेकिन जो इस काउंसलिंग में भाग नहीं लेंगे तो वह बिना चेकिंग के ही फर्जी घोषित हो जाएंगे। फिर उनपर तो कार्यवाई निश्चित है।

यह भी पढ़े- Lok Sabha Elections 2024: कांग्रेस नेता एके ने कहा भाजपा उम्मीदवार मेरा बेटा अनिल जरूर हारेगा, जिस पर बेटे ने भी दिया करारा जवाब